FitYog

शराबी को बिना बताये शराब छुड़ाए | नशा मुक्ति केंद्र में इलाज के आसन तरीके |

शराब, गुटका, सिगरेट, गांजा, बीड़ी, ड्रग्स आदि के नशे की आदत एक बहुत ही खतरानाक और भयावह लत है जो की किसी भी व्यक्ति के जीवन और जीवनशैली को पूरी तरह से बर्बाद कर देती है। चिंता की सबसे बड़ी बात ये है की आज के समय मे अधिकतर युवा पीढ़ी ही सिगरेट और शराब के नशे से सबसे ज्यादा ग्रस्त है।

आप को ये जानकार हैरानी होगी की नशे के अडिक्ट 50 प्रतिशत लोग मात्र 13 वर्ष की आयु में ही शराब ,गुटका ,सिगरेट ,ड्रग्स आदि मे से किसी ना किसी नशे का सेवन कर चुके होते है। जो की आगे चलकर जाने-अनजाने मे एक भयावह लत का रूप ले चुकी होती है।

पर दोस्तों, ऐसा नहीं है की नशे की लत का समाधान या उपचार नहीं है ! बिल्कुल है बस थोड़ी सी द्रढ़-इच्छाशक्ति और नशा मुक्ति उपायों  (Nasha mukti upay) की जरूरत है। जिनका हम इस लेख मे विस्तार से चर्चा करेंगे |

अत: लेख को अतं तक ध्यान पूर्वक ज़रूर पढ़े निश्चित ही आपको नशा मुक्ति उपाय (nasha mukti) आप में ही या आपके आसपास स्थित नशा मुक्ति केंद्र (nasha mukti kendra) मे ही मिल जाए | तो आईए निम्नलिखित मुख्य बिन्दुओं से शुरू करते है।

टेबल कंटेंट (विषय सूचि):-

  1. नशा क्या है ? और इसकी लत कैसे लगती है ?
  2. शराब के दुष्परिणाम (nashe ke side effects)
  3. बिना बताये शराब छुड़ाने के उपाय (sharab chudane ke upay)
  4. नशा मुक्ति केंद्र में इलाज (nasha mukti Kendra mai elaz)

नशा क्या है ? और इसकी लत कैसे लगती है ?

नशा एक बुरी आदत है जिसमें व्यक्ति अपनी सोचने समझने की सुध-बुध को शिथिल करके कुछ समय के लिए अपने आप को अच्छा महसूस कराने की गलत कोशिश करता है। और इसके लिए वह सिगरेट, शराब, गुटका, या ड्रग्स किसी भी नशे का सेवन अकेला या अपने दोस्तों की साथ करता है।

शुरुआत मे नशे का सेवन शौकिया तौर पर दोस्तों के साथ शुरू होता है। और फिर, धीरे-धीरे यह एक बुरी लत का रूप ले लेता है। नशे की लत का वैज्ञानिक कारण यह भी है कि जब हमारे शरीर डोपामाइन हार्मोन (Dopamine) अधिक मात्रा मे उत्पन्न होता है तो हम यह महसूस करते है की “कैसे अधिक से अधिक आनंद को कम से कम समय मे महसूस करे” | और नशा करना इसका सबसे आसन तरीका होता है। जो की आगे चलकर नशे की लत का रूप ले लेती है।

शराब के दुष्परिणाम (nashe ke side effects):-

शराब, गुटका, सिगरेट, ड्रग्स आदि के पहले दिन सेवन करने से ही आप को इसके शारीरिक, मानसिक और आर्थिक दुष्परिणाम महसूस और देखने लग जाएंगे |

बिना बताये शराब छुड़ाने के उपाय (sharab chudane ke upay):-

नशे की लत के रोगी मे शराब की लत के 50% से ज्यादा रोगी होते है। और सबसे बड़ी समस्या ये होती है की नशे से पीड़ित व्यक्ति यह नहीं मानता की वह इस समस्या से जूझ रहा है और इससे पीड़ित है। इस स्थिति मे शराब छुड़ाना और इसका उपचार बहुत मुश्किल हो जाता है।

इसलिए नशा छुड़ाने के लिए निम्नलिखित बिना बताये शराब छुड़ाने के उपाय (sharab chudane ke upay) ही सबसे कारगर है।

(a). शराब छुड़ाने की होम्योपैथिक दवा :-

(b). शराब छुड़ाने की टेबलेट (sharab churane ki dawa):-

(c). नशा मुक्ति दवाई (nasha mukti medicine) :-

(d). पतंजलि नशा मुक्ति दवाई (patanjali nasha mukti medicine):-

दोस्तों , उपरोक्त सभी होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक और शराब छुड़ाने की अंग्रेजी दवा का असर अलग-अलग रोगी पर अलग-अलग होता है अत: नशा मुक्ति दवाईयां (nasha mukti dava ) हमेशा एक अच्छे डॉक्टर के परामर्श और सलाह पर ही लेना उचित है। अगर नशे की लत बहुत ही गंभीर है तो नशा मुक्ति केंद्र (nasha mukti kendra) मे इलाज़ होता है।

नशा मुक्ति केंद्र में इलाज (nasha mukti Kendra mai elaz):-

अकसर लोगों के मन एक भ्रम होता है की नशा मुक्ति केंद्र (Rehabilitation center) मे इलाज़ बहुत ही कठिन और मुश्किल हालातों मे होता है। पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। एक अच्छे नशा मुक्ति केंद्र (nasha mukti kendra) में इलाज़ एक चरणबद्ध तरीके से होता है। तो आईए, इन चरणों को समझते है।

  1. सबसे पहले रोगी को समझाकर नशा मुक्ति केंद्र मे भर्ती किया जाता है। और रोगी की पूरी केस हिस्ट्री का डेटा रिकॉर्ड बुक मे दर्ज किया जाता है। फिर डॉक्टर और काउंसिलिंग टीम रोगी के शरीर को डी-टॉक्स करके शरीर से हानिकारक तत्वों को बहार निकालाने की प्रक्रिया करती है। और फिर रोगी को अगले कुछ दिनों तक आरामदायक माहौल में सेन्टर के स्टाफ के ऑब्जरवेशन मे रखा जाता है।
  2. रोगी के व्यवहार और कंडीशन के हिसाब से डॉक्टर और काउंसिलिंग टीम दैनिक गतिविधियों का निरधारण करती है और धीरे-धीरे रोगी को खेल मे खेल में योग,ध्यान, व्यायाम,समय पर भोजन और मोटिवेशनल गतिविधियों में शामिल करते है।
  3. कुछ समय बाद जब रोगी घर जैसे नए माहौल मे सेट हो जाते है तो उन्हे अब सेन्टर (nasha mukti kendra) की कुछ छोटी-छोटी जिम्मेदारियां जैसे अपने रूम की साफ़-सफाई, बागवानी, सुबह की योगा और व्यायाम कक्षा की लीडरशिप आदि दी जाती है।
  4. इस तरह इन सभी नियमित गतिविधियों से रोगी के तन और मन से नशे को पूरी तरह से मिटाने का प्रयास किया जाता है नशा मुक्ति कोर्स के 6 महीने के दौरान रोगी का आत्मविश्वास और आत्मनियंत्रण को प्रबल बनाया जाता है। और नशा मुक्ति केंद्र (nasha mukti kendra) के बाद भी समय-समय पर डॉक्टर और स्टाफ ठीक हुए रोगी के साथ काउंसिलिंग करते है।

दोस्तों, हमने ये तो समझ लिया की कैसे नशे और शराब की लत से निजात पाई जा सकती है। पर ये भी जानना ज़रूरी है की आप के आसपास कौनसे अच्छे nasha mukti kendra है ?

इंडिया के 10 सबसे अच्छे नशा मुक्ति केंद्र (Nasha mukti kendra in india):-

दोस्तों, आशा करते है की लेख से आपको काफी जानकारी प्राप्त हुई है। और स्वास्थ्य के बारे मे और अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित ब्लॉग को भी ज़रूर पढ़े |

  1. 21 हेल्थ टिप्स जो आप के जीवन को सुखमय बना दे
  2. थायराइड रोग़ मे क्या खाएं अब यह नहीं सोचना पड़ेगा
  3. थाइरोइड टेस्ट से थायराइड का पता कर रामबाण इलाज

ब्लॉग राइटर :- अनिल रमोला

 

Exit mobile version