तनाव के लक्षण और तनाव दूर करने के उपाय। What is Stress, and Tension in Hindi

दोस्तों, इस भागदौड़ भरी और अत्यधिक व्यस्त जीवनशैली मे अकसर हम तनाव और टेंशन के लक्षण महसूस करते है। और ये शब्द तनाव और टेंशन हमारे मुख से ना जाने दिन मे कितनी बार सुनने और देखने को मिलता है। पर हम कभी ये नहीं समझ पाये की तनाव और टेंशन क्यों होता है ? और इसे कैसे अपने जीवन से हमेशा के लिए दूर कर दे ?तनाव के लक्षण और तनाव दूर करने के उपाय। What is Stress, and Tension in Hindi

अगर आप अपने जीवन से टेंशन और तनाव को दूर करना चाहते है तो इस लेख को मन लगाकर अंत तक ज़रूर पढ़े | तो आईए देर किस बात की चुटकी बजाते ही इस टेंशन और तनाव को दूर करने का सफ़ल प्रयास करते है।

Table Content (विषय सूची):-

स्ट्रेस, तनाव और टेंशन क्या है ? (What is Stress, Tanav and Tension in hindi):-

स्ट्रेस, तनाव और टेंशन हमारे मन की ऐसी मनोदशा है जिसमें मनुष्य के मष्तिष्क की सोचने , समझने और निर्णय लेनी की क्षमता पर बहुत बुरा असर पड़ता है। मन मे भारीपन सा और सुन्न सा महसूस होता है। सोचने समझने की शक्ति बिल्कुल शीण (कम) हो जाती है व्यक्ति अपने अच्छे-बुरे की समझ खो देता है। इस वजह से किसी बात या काम की अनावश्यक चिंता और अनिश्चिता महसूस होती है जो की टेंशन और तनाव है।टेंशन के लक्षण,tension in hindi

टेंशन और तनाव मानसिक रूप की साथ शारीरिक रूप से भी होता है। किसी भी प्रकार का असफ़ल होने का भय अगर ज़रूरत से अधिक है तो वो भी स्ट्रेस, टेंशन और तनाव का ही एक रूप है।

तनाव और टेंशन क्यों होता है ? (Tanav aur Tension kyu hota hai):-

हमने ये तो समझ लिया की टेंशन और तनाव क्या है। पर जब तक इसके होने के कारणों का पता नहीं चलेगा तब तक टेंशन और तनाव पर विजय नहीं पाई जा सकती है तो आईए टेंशन और तनाव होने के सभी कारणों को समझ कर टेंशन को दूर भगा देते है।

  • जरूरत से अधिक अनावश्यक रूप से किसी बात या काम की चिंता करना |
  • किसी कार्य मे असफ़ल हो जाना |
  • अपनी मेहनत और लक्ष्य मे सामंजस्य ना रख पाना |अर्थात् लक्ष्य बड़ा रखना और उस हिसाब से मेहनत ना कर पाना|
  • सही समय पर सही निर्णय ना ले पाना |
  • अपने अतीत (Past) की असफलताओं को मन मे रखना |
  • अपनी कमाई (income) से अधिक खर्च करना |
  • अधिक भावुक लोग जल्दी और ज्यादा टेंशन करते है।
  • बेरोजगारी आज के समय के युवाओं (Young Generation) के टेंशन की सबसे बड़ी वजह है।
  • परिवारिक और प्रेम रिश्ते मे कलह |
  • किसी अपने को खो देना चाहे उसकी मृत्यु हो गई हो या वो आप से दूर हो गया है।
  • बुरी संगत जैसे ज्यादा धुम्रपान और शराब का सेवन करना | और ड्रग्स की लत |
  • टेंशन और तनाव होने का सबसे बड़ा कारण है सामने वाले व्यक्ति पर जरूरत से अधिक विश्वास करना और अपेक्षा रखना |

दोस्तों, अगर इन सभी कारणों को हम दूर कर दे तो हो सकता है की टेंशन और तनाव हमारे जीवन मे कभी ना आ पाये |

हम तनाव, स्ट्रेस और टेंशन के लक्षण कैसे पता करे ? (Tanav, Stress aur Tension ke lakshan)

टेंशन और तनाव एक ऐसा रोग़ जिसके होने का पता हमे चलता ही नहीं और ये stress हमें अन्दर ही अन्दर कुंठित ,कमजोर और निराशावादी बना देता है। जिससे ओर बहुत से रोगों से हम ग्रसित हो जाते है जैसे माइग्रेन, हार्मोन स्त्राव असंतुलन ,low BP,High BP और शुगर आदि | टेंशन के लक्षण समय रहते पता चल जाय तो इसको दूर करना आसन होता है अन्यथा इसके बहुत बुरे परिणाम होते है।

तो आईए दोस्तों, टेंशन के लक्षण को जन्म लेने से पहले ही पता कर, टेंशन को ही टेंशन दे देते है।

टेंशन होने के शारीरिक लक्षण :-

  1. शरीर मे रोज दर्द रहना टेंशन का सबसे बड़ा लक्षण है।
  2. जुखाम और बुखार बार-बार होना |
  3. आये दिन दस्त और कब्ज़ की समस्या होना|
  4. सिर दर्द रहना |
  5. शादीशुदा लोगों का सेक्स से अलगाव की मूल जड़ टेंशन ही है।

टेंशन होने के मानसिक लक्षण :-

  1. याददाश्त और स्मरणशक्ति का कमज़ोर होना|
  2. हर बात मे नकारात्मक सोचना |
  3. मन का थोड़ी से देर मे इधर-उधर भटकना (मन एकाग्रचित ना होना ) |
  4. बैचैन रहना और हर बात की जरूरत से ज्यादा चिंता करना |
  5. निर्णय (Decision) को बार-बार अनावश्यक बदलना |

टेंशन होने के भावनात्मक लक्षण :-

  • लोगों के बीच मे रहते हुये भी टेंशन से ग्रस्त व्यक्ति अपने आप को अकेला महसूस करता है।
  • बहुत जल्दी घबरा (डर) और दुखी हो जाना|
  • हर बात पर गुस्सा करना और स्वभाव से चिडचिड़ा हो जाना |
  • हर दुसरे व्यक्ति को अपना दुश्मन या बुरा करने वाला समझना |
  • हर समय व्याकुलता (Inpatient) और उतावलापन महसूस करना |

टेंशन होने के व्यवहारिक लक्षण :-

  1. जररूत से ज्यादा या कम सोना (Sleep) टेंशन होने का प्रथम लक्षण है।
  2. अपनी भूख के मुकाबले लम्बे समय तक कम या ज्यादा खाना |
  3. नाख़ून चबाने की आदत हो जाना |
  4. नशे (शराब ,धुम्रपान ,ड्रग्स आदि ) को अपना सहारा और दोस्त मानना शरू करना |
  5. अपनी जिम्मेदारी का ना समझना और काम ना करने का बहाना बनाना |

तो दोस्तों ,हमने देखा की किस प्रकार टेंशन और तनाव अधिक होने पर हमारे जीवन रूपी नाव  उलटी दिशां मे पलटने और भंवर मे फ़सने की ओर है पर चिंता मत कीजिए इस संसार मे हर मर्ज की दवा भी है। तो आईए टेंशन दूर करने का मंत्र और उपाय रूपी दवा को अपने जीवन मे अपना कर इस समस्या को कोसों दूर भगा देते है ताकि ये टेंशन और तनाव कभी जीवन मे दुबारा लौट कर ना आये |

तनाव और टेंशन दूर करने का मंत्र, उपाय और बचाव क्या है ?(Tension Dur Karne Ka Upay Aur Mantr)

तनाव और टेंशन दूर करने का मंत्र कोई जादू की छड़ी नहीं है की छड़ी घुमाई और टेंशन और तनाव गायब हो जाय | पर इतना ज़रूर है की अगर आपने निम्नलिखित बातों और उपायों को ध्यान से पढ़ा और महसूस किया तो ये तुच्छ सी बला जिसे हम टेंशन कह रहे है ये पता नहीं कब एक मुस्कराहट मे बदल जाय | तो आईए मिलकर इस तनाव और टेंशन दूर करने का मंत्र को समझते है।tesnion dur karne ke upay,tension dur karne ke liye yog,

  • व्यस्त रहे और मस्त रहे :-

अगर आप अपने काम मे मन लगाकर व्यस्त (Busy) रहेंगे तो आप का मन एकाग्रचित रहता है और मन मे सकारात्मक विचार आते है।

  • योग करे :-

जो व्यक्ति नियमित रूप से सुबह के समय योग करता है वह अन्य व्यक्तियो के मुकाबले अधिक ऊर्जावान और फुर्तीला होत्ता है। ऊर्जावान और फुर्तीला शरीर ही टेंशन दूर करने का मूल मंत्र है। टेंशन और तनाव रूपी मानसिक रोग के लिए योग बहुत लाभकारी है। योग मे आप मैडिटेशन, आसन, प्राणायाम और ध्यान सभी क्रियायो का अभ्यास करके टेंशन और तनाव को कोसों दूर रख सकते है।

  • अपनी सबसे पसंदीदा हॉबी को एन्जॉय करे:-

हर व्यक्ति की कुछ ना कुछ हॉबी होती है चाहे वो गाने सुनना , मूवीज देखना , कोई खेल खेलना ,योग करना, जिम करना, हिल स्टेशन घूमना या The कपिल शर्मा कॉमेडी शो आदि देखना हो | आपको जब भी टेंशन या तनाव महसूस हो आप अपनी हॉबी को अपने हिसाब से एन्जॉय करके टेंशन को हमेशा के लिए दूर कर अपने चहरे पर एक सुन्दर सी मुस्कराहट ला सकते है।

  • एक ही जगह पर अधिक समय तक ना तो बैठे और ना ही खड़े रहे :-

क्योंकि ऐसा करने से मष्तिष्क एक ही बात के बारे मे सोचता है और अगर विचार नकरात्मक (Negative) है तो टेंशन और तनाव बढ़ने के शत-प्रतिशत सम्भावना है।

  • मोटिवेशन बढ़ाने वाले Vedio देखे और Blogs पढ़े :-

आज के समय मे आप मोबाइल ,लैपटॉप और डेस्कटॉप पर इंटरनेट की मदद से एक क्लिक पर ही Youtube motivational video और Google Blogs को पढ़ कर और देख कर स्वयं को Motivate कर सकते है। ये प्रक्रिया मानसिक रोग के लिए मंत्र की तरह काम करती जो की टेंशन रूपी रोग़ को जड़ से खत्म कर देती है।

दोस्तों ,अगर आप उपरोक्त बातों को फॉलो करते है तो टेंशन तो बहुत दूर की बात है तनाव और टेंशन के लक्षण ही कोसों दूर भागते हुए नज़र आयेंगे | फिर भी अगर कुछ टेंशन रह जाती है तो हमरे विजान मे इसका इलाज़ भी है। तो आईए इलाज़ भी देख लेते है।

तनाव, टेंशन और स्ट्रेस का इलाज़ (Treatment of Tanav, Tension and Stress in hindi):-tension ka elaz ,tension dur karne ke upay,tension ke lakshan

अगर आप को कभी भी लगे की तनाव और टेंशन ज्यादा हो रही है तो तुरन्त अच्छे से मनोचिकित्सक (Physiotherapist) और Counselor (सलाहकार) से ज़रूर परामर्श करे | क्योंकि तनाव, टेंशन. मानसिक रोग़, stress आदि सभी को विभिन्न Therapy से ठीक किया जा सकता है।

आप India की  बहुत अच्छी  मनोचिकित्सक (Physiotherapist) और Counselor(सलाहकार) की सम्पूर्ण जानकारी निम्नलिखित Pics पर क्लिक कर पता कर सकते है।Treatment of tension by Physiotherapist ,tension dur karne ke liye doctor

इस सम्पूर्ण लेख को पढ़ने के बाद निश्चित रूप से दोस्तों आप की टेंशन और तनाव छू-मंतर हो गया होगा ऐसी सफ़ल आशा हम आप से करते है। क्योंकि यह ब्लॉग मेरे जीवन के 25 वर्षो के विभिन्न पड़ावों के रियल अनुभव के आधार पर लिखा गया है। और इस लेख को लिखने की प्रेरणा और मार्गदर्शन श्री गजेन्द्र राणा जी की वजह से संभव हो पाया है। राणा जी एक वरिष्ट Accounts Management Counselor है जो हमेशा एक बात कहते है और अपने जीवन मे फॉलो भी करते है की व्यस्त रहो और मस्त रहो |

Related Post :-

  1. ताड़ासन योग से हाइट तुरंत बढ़ाए
  2. सुबह जल्दी कैसे उठे
Blog Writer:- Anil Ramola

दोस्तों, फिर जल्दी ही मिलते है एक नये विचार और नयी सोच की चर्चा के साथ, तब तक योग और स्वास्थ्य के लिए हमारे Fityog Facebook Page के साथ बने रहे |

धन्यवाद |

17 thoughts on “तनाव के लक्षण और तनाव दूर करने के उपाय। What is Stress, and Tension in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *