FitYog

सर्वांगासन के 10 चमत्कारी फ़ायदे | Sarvangasana Benefits

सर्वांग-आसन को को योग की “Queen” कहा जाता हैं। क्योंकि इस एक आसन के अभ्यास से  शरीर के सभी भागों की कार्यप्रणाली बहुत अच्छी हो जाती हैं।

सर्वांगासन तीन शब्दों से मिल कर बना हैं। जिसका अर्थ है की शरीर के सभी अंगो के लिए एक योग पोजीशन |

सर्व – सभी

अंग- शरीर के भाग

आसन – योग पोजीशन

सर्वांगासन को करने से पहले हमेशा योग के सूक्ष्म व्यायाम कर लेना चाहिए | क्योंकि Sarvangasan एक जटिल आसन हैं। ओर हमारी बॉडी मे किसी भी प्रकार की अकड़न नहीं होनी चाहिए |

How To Do Sarvangasana | सर्वांगासन करने की विधि

इस प्रकार हम रेगुलर योग अभ्यास से Sarvangasana(सर्वांग-आसना) मे निपुण हो सकते हैं।

सर्वांगासन करते समय कुछ सावधानिया  | Awareness While Doing Shoulder Stand Asan

अब हम सर्वांगासन से शरीर मे होने वाले फ़ायदों(Benefits) की समीक्षा करते हैं।

Sarvangasana Benefits | (सर्वांगासन के फ़ायदे)

Sarvangasan से खोपड़ी में रक्त और पोषक तत्वों की आपूर्ति बढ़ जाती हैं। जिससे बालों की जड़ो का अच्छा पोषण होता हैं। ओर हमारे सर के बाल मजबूत ओर काले होते हैं। जिससे बालों के झड़ने की समस्या कम हो जाती हैं।

सर्वांगासन मे पैर ऊपर की तरफ होने की वजह से गुरुत्वाकर्षण के कारण रक्त का flow विपरीत दिशा मे पैरों से मस्तिष्क की ओर अच्छा होता हैं। जिससे से दिमाग को अच्छा पोषण मिलता हैं। माइंड बिल्कुल रिलैक्स हो जाता हैं। जिससे  निम्न रक्तचाप (bp low ) और कोलोस्ट्रोल की समस्या काफ़ी हद तक  दूर होती हैं।

सर्वांगासन स्नायु तंत्र को मजबूत बनाता है जिससे सर्दी, जुकाम, ख़ासी ओर सिरदर्द से राहत मिलती हैं।

Sarvangasan ka sabsay acha benefits ये है की शरीर पर गुरुत्वाकर्षण खिचाव से पेट की मांसपेशियों का अच्छा व्यायाम होता हैं। जिससे मेटाबोलिज्म रेट (पाचन-क्रिया) अच्छी होने से भोजान का पाचन अच्छे से होता हैं। कब्ज़ की समस्या नहीं होती हैं।

Most important Benefits of Sarvangasana ये है की रीढ़ की हड्डी को flexible ओर मजबूत बनता हैं। पीठ की ताकत को बढ़ाता है ओर पीठ का Posture ठीक करता हैं।

Sarvangasana का अभ्यास थायराइड ओर पैराथायराइड ग्रंथियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता हैं। जिससे इन ग्रंथियों का स्वास्थ्य अच्छा होता हैं। इस प्रकार थायराइड हार्मोन के अनियमित स्त्राव को शुरुआत मे ही रोका जा सकता है।

Sarvangasan का अपने दैनिक जीवन मे प्रतिदिन अभ्यास करना चाहिए | जिससे शांति, आत्मविश्वास और कल्याण की भावना को हम महसूस कर पायेंगे | सर्वांगासन का अभ्यास हमेशा एक अनुभवी शिक्षक की देखरेख में करे |

Blog Writer:- Anil Ramola

स्वास्थ(Health) से संबंधित आपका कोई भी सुझाव या Guest Post हो तो आप anilchandramola1986@gmail.com पर E-mail send कर सकते हैं।  योग Events की और अधिक जानकारी के लिए हमारे Facebook Page पर संपर्क ज़रूर करे|

Exit mobile version