अनचाहा गर्भधारण/प्रेगनेंसी रोकने के 11 आसान उपाय |

आज की व्यस्त और भागदौड़ भरी जीवनशैली में प्लानिंग का होना बहुत ही ज़रूरी है। अब वों चाहे करियर की प्लानिंग हो या शादीशुदा जीवन में फैमिली प्लानिंग | और अनचाहा गर्भधारण (प्रेगनेंसी) तो एक बहुत ही बड़ी समस्या है जिसे रोकने और गिराने की जल्दबाजी में कई बार गलत दवाइयां या गलत निर्णय लेते है। pregnancy rokne ke upay

अत: इस लेख में अनचाही प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay) को विषय सूचि के एक-एक बिंदु से समझने की एक सफ़ल कोशिश करेंगे | पर इसके लिए, आपको हमेशा की तरह लेख (ब्लॉग) को ध्यान लगाकर अंत तक पढ़ना होगा | तो आईए, शुरू करते है।

विषय सूचि :-

  1. प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay)
  2. गर्भ निरोधक टेबलेट नाम एंड प्राइस (garbh nirodhak tablet)
  3. गर्भनिरोधक गोली कब लेनी चाहिए (garbh nirodhak goli kab lena chahiye)
  4. गर्भ निरोधक गोली के फ़ायदे (garbh nirodhak goli ke fayde)
  5. गर्भनिरोधक गोली के नुकसान (garbh nirodhak goli ke nuksan)

प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay)

अनचाहा गर्भधारण या अनचाही प्रेगनेंसी वाली समस्या को हम कुछ सावधानियों और प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay) से दूर कर सकते है जिनका कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं है।

(i) ओव्यूलेशन के दिन सेक्स ना करे :- pregnancy rokne ke upay

महीने में एक ही दिन होता है जब लड़की के युटरस (गर्भाशय) में अंडा बनता है और इसकी लाइफ 24 घंटे होती है अगर इस दौरान इसका सम्पर्क शुक्राणु से नहीं होता है तो प्रेगनेंसी (गर्भधारण) नहीं होता है।

ओव्यूलेशन टाइम को आप निम्नलिखित चित्र से समझ सकते है। pregnancy rokne ke upay

जिससे आप जान पायेंगे कि अगर मासिक चक्र का समय 30 दिन है तो पीरियड के पहले दिन के बाद 11 वें दिन से 19 वें दिन सेक्स नहीं करना चाहिए |

(ii) सेक्स के दौरान पुरुष स्पर्म योनी में ना छोडें :- यह प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay) में सबसे उत्तम उपाय है अगर पुरुष सेक्स के दौरान स्पर्म योनी में ना छोडें तो शुक्राणु योनी में प्रवेश ही नहीं कर पायेंगे और बगैर शुक्राणु के गर्भधारण (प्रेगनेंसी) संभव नहीँ | पर इस उपाय में पुरुष और महिला दोनों को थोड़ा सा सजग रहना होता है।

(iii) कंडोम (निरोध) का प्रयोग :-  pregnancy rokne ke upay

आज के समय में स्त्री और पुरुष दोनों के लिए कंडोम (निरोध) मेडिकल की दुकान में आसानी से उपलब्ध है जो की सेक्स होने के बाद शुक्राणु और अंडे का मिलन नहीं होने देते है। यह गर्भनिरोधक घरेलू नुस्खा सबसे आसान और कारागार है।

(iii) हल्दी और दाल चीनी सेवन (haldi se pregnancy rokne ke upay) :- हल्दी और दालचीनी गर्म तासीर के मसाले है इस गर्भनिरोधक की आयुर्वेदिक दवा का सेवन करने से गर्भधारण/प्रेगनेंसी नहीं ठहरती है। सेक्स करने की बाद एक छोटा चमच्च हल्दी पाउडर को एक गिलास पानी में मिलाकर पीने से शुक्राणु और अंडे की क्रियाशीलता मंद हो जाती है जिससे शुक्राणु और अंडे का मिलन नहीं हो पाता है।

(iv) कच्चा पपीता, पपीते की बीज और अनानास के सेवन से भी गर्भधारण नहीं होता है। pregnancy rokne ke upay

अगर सेक्स के बाद गर्भधारण हो भी जाए तो आपको बस अगले 7 दिन तक लगातार कच्चा पपीता, पपीते की बीज या अनानास का सेवन दिन में 2 बार करने से अनचाही प्रेगनेंसी नहीं ठहरती है।

(v) लहसुन एक बहुत ही अच्छी गर्भनिरोधक आयुर्वेदिक दवा (garbh nirodhak ayurvedic dawa ) है। क्योंकि लहसुन एक गर्म तासीर का भोजन तत्व है। सेक्स के बाद अगले 5 दिन तक सुबह-शाम लहसुन का एक पीस का छिलका उतारकर, चबाकर खाने से भी प्रेगनेंसी नहीं ठहरती है।

(vi) ज्यादा खट्टे प्रदार्थ जैसे नींबू, खट्टे संतरे, खट्टा आचार के सेवन भी अनचाही प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay) है।

(vii) गर्भनिरोधक की आयुर्वेदिक दवा के रूप में नीम के तेल को योनी और लिंग पर लगाकर सेक्स करने से शुक्राणु एकदम निष्क्रिय हो जाते है। जो कि उत्तम गर्भनिरोधक घरेलू नुस्खा (pregnancy rokne ke tarike) है।

दोस्तों, इस प्रकार थोड़ी सी सजगता से हम इन प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay) को अपनाकर अनचाही और असमय गर्भधारण/प्रेगनेंसी को रोक सकते है।

यह भी ज़रूर पढ़े :- मन को कैसे खुश रखे |

गर्भ निरोधक टेबलेट नाम एंड प्राइस (garbh nirodhak tablet)

गर्भ निरोधक टेबलेट और गर्भ निरोधक गोली डॉक्टर की सलाह पर नियमित रूप से लेने पर गर्भधारण/प्रेगनेंसी नहीं ठहरती है। क्योंकि यह गर्भ निरोधक टेबलेट/गोली स्त्री के शरीर में प्रोजेस्टिन और एस्ट्रोजेन हार्मोन का नियंत्रण करती है।

जिससे प्रोजेस्टिन हार्मोन अंडे को नहीं बनने देता है और एस्ट्रोजेन हार्मोन योनी में पाया जाने वाले म्यूकस (एक प्रकार का तरल पदार्थ) को गाड़ा कर देता है जिससे शुक्राणु गर्भाशय में ही प्रवेश नहीं कर पाते | फलस्वरूप फर्टिलाइजेशन नहीं हो पाता और गर्भधारण/प्रेगनेंसी नही होती है।

अगर सेक्स करने के बाद गर्भ निरोधक टेबलेट लेना भूल भी गई है तो भी कुछ ऐसी गर्भ निरोधक टेबलेट/गोली है जो 2 महीने तक के ठहरे हुए गर्भधारण/प्रेगनेंसी को हटा सकती है। पर बार-बार इनका उपयोग करने से स्त्री के शरीर में शारीरिक दुष्प्रभाव देखने को मिलते है अत: बैगर डॉक्टर के सलाह के इन्हें नहीं लेना चाहिए |

मेडिकल शॉप में यह गर्भ निरोधक गोली आसानी से विभिन्न ब्रांड की मिल जाती है। गर्भ निरोधक गोली के नाम 4 प्रकार के है जो निम्नलिखित है।

  1. प्रोजेस्टिन ओनली गोली या मिनी गोली
  2. कॉम्बिनेशन गोली
  3. एमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव गोली
  4. सेंट्रोक्रोमन ( ओरमेलोक्सीगईन ) गोली

1. प्रोजेस्टिन ओनली गोली या मिनी गोली :-  गर्भ निरोधक टेबलेट नाम एंड प्राइस

इस प्रकार की एक (garbh nirodhak tablet ) डॉक्टर के परामर्श के बाद हर दिन पानी के साथ खानी होती है। मिनी गोली में प्रोजेस्टिन हार्मोन होता है। जो की गर्भाशय की परत को पतला और म्‍यूकस (योनी से निकलने वाला क्रीमी द्रव्य) को गाढ़ा करती है जिससे अंडा नही बनता है और अगर बन भी जाए तो शुक्राणु को अंडे से नही मिलने देती है।

कुछ प्रोजेस्टिन ओनली या मिनी गर्भ निरोधक टेबलेट नाम एंड प्राइस (garbh nirodhak tablet ) इस प्रकार है।

गर्भ निरोधक टेबलेट के नाम एंड प्राइस (garbh nirodhak tablet)

गर्भ निरोधक टेबलेट का नाम (Brand)

मूल्य  (21 गोलियां का)

Ethinyl Estradiol 0.01mg Tablet

600.0 Rs

Yasmin Tablet

498.0 Rs

Crisanta Tablet

347.0 Rs

Ovral L

120.0 Rs

Triquilar Tablet

80.0 Rs

 

2. कॉम्बिनेशन गोली :- इस प्रकार की गर्भ निरोधक टेबलेट/गोली (garbh nirodhak tablet) में प्रोजेस्टिन और एस्ट्रोजेन दोनों प्रकार के हार्मोन होते है जो गर्भधारण/प्रेगनेंसी नहीं ठहरने देते है। यह गर्भ निरोधक टेबलेट/गोली भी डॉक्टर के परामर्श के बाद हर दिन एक गोली पानी के साथ ली जाती है।

3. एमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव गोली :- 

यह गर्भ निरोधक गोली मिनी गोली या कॉम्बिनेशन गोली खाने में मिस होने के बाद बहुत उपयोगी है। सेक्स करने के बाद 72 घंटे में लेने पर यह 85% तक गर्भ रोकने में कामयाब रहती है और अगर सेक्स करने के तुरन्त बाद इसे ले तो यह 95% तक गर्भ रोकने में कारागार है। और इस एक गोली को सिर्फ एक बार ही लिया जाता है।

एमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव गोली अंडे और शुक्राणु के फर्टिलाइजेशन प्रक्रिया को नहीं होने देते है जिससे गर्भधारण/प्रेगनेंसी नहीं होती है।

एमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव गोली खाने के बाद अगर 2 घंटे के बाद उल्टी आए तो घबराने के कोई बात नही है। कई बार ऐसा होता है लेकिन अगर 2 घंटे से पहले ही उल्टी आ जाए तो फिर से कुछ देर बाद एक गोली और खा ले |

मेडिकल की दुकान में यह I-Pill ,Unwanted-72, Ezy pill आदि नाम से आसानी से मिल जाती है। और इन  गर्भ निरोधक टेबलेट का प्राइस सिर्फ 80 Rs से 150 Rs तक होता है।

4. सेंट्रोक्रोमन (ओरमेलोक्सीगईन) गोली :- यह गोली भी अंडाशय में अंडे को बनने से रोकती है इसे सप्ताह में एक बार लिया जाता है।

गर्भनिरोधक गोली का सेवन हमेशा डॉक्टर की सलाह और परामर्श के बाद ही करना चाहिए |

यह पढ़ना भी ना भूले :- पीरियड के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है।

गर्भनिरोधक गोली कब लेनी चाहिए (garbh nirodhak goli kab lena chahiye)

जैसा कि उपरोक्त लेख में हमने जाना की गर्भनिरोधक गोली 4 प्रकार की होती है। गर्भनिरोधक प्रोजेस्टिन ओनली गोली या मिनी गोली, कॉम्बिनेशन गोली आपको पूरे महीने हर दिन 1 गोली खानी है।

एमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव गोली सिर्फ एक बार सेक्स के बाद खानी है। और सेंट्रोक्रोमन सप्ताह में एक बार खाना है।

गर्भनिरोधक गोली के फ़ायदे (garbh nirodhak goli ke fayde)

  1. अनचाहे गर्भधारण/प्रेगनेंसी को तुरन्त रोकती है।
  2. दो बच्चों के बीच के अन्तराल को आसानी से बढ़ाया जा सकता है।
  3. सेक्स को नेचुरल तरीके से एन्जॉय कर सकते है।

गर्भनिरोधक गोली के नुकसान (garbh nirodhak goli ke nuksan)

  1. गर्भनिरोधक गोली लम्बे समय तक लगातार खाने से पीरियड cycle के दिनों की संख्या कम या ज्यादा होती है।
  2. मासिक चक्र में खून का स्त्राव कम या ज्यादा होता है।
  3. पाचन सम्बन्धी समस्या शुरू हो जाती है।
  4. मोटापा बढ़ने का खतरा रहता है।
  5. उल्टी आना, सिरदर्द होना, चेहरे पर पिम्पल होना, जी मचलना आदि समस्या होती है।

आशा करते है कि हर बार की तरह यह प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू उपाय (pregnancy rokne ke upay) लेख से आपको बहुत अच्छी जानकारी प्राप्त हुई है। लेख को ओर बेहतर बनाने के लिए कमेंट बॉक्स में आपके सुझाव आमंत्रित है।

प्रेगनेंसी के बारे में और अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लेख भी ज़रूर पढ़े |

  1. बिना दर्द के नॉर्मल डिलीवरी अब नहीं कोई मुश्किल काम, बस अपनाएं यह 5 उपाय |
  2. 9 मुख्य प्रेगनेंसी के लक्षण घर घर बैठे-बैठे पता करे |
  3. माहवारी के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है।

Blog by :- Anil Ramola

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *