घुटनों के दर्द से पाए अब तुरन्त छुटकारा | Jodo aur Ghutno ka dard ka ilaj |

घुटनों का दर्द (ghutno ka dard) एक आम शिकायत है जो सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करता है। आप को यह जानकर हैरानी होगी की सिर्फ भारत मे ही 15 करोड़ लोगों को जोड़ो और घुटनों का दर्द (ghutno ka dard) की समस्या है। और उसमे से भी 4 करोड़ लोगों को हर साल घुटनों का ट्रांसप्लांट कराना पड़ता है।

घुटने का दर्द एक ताज़ा या पूरानी चोट का परिणाम हो सकता है। जिसकी वजह से लिगामेंट टूटने ,गठिया, और संक्रमण होने की सम्भावना रहती है।ghutno ka dard

दोस्तों, आज इस लेख मे हम जोड़ो और घुटने के दर्द से संबंधित सभी बातोँ पर फ़ोकस करेंगे | जानकारी के लिए ब्लॉग को अंत तक ज़रूर पढ़े |

टेबल कंटेंट (विषय सूचि) :-

  1. घुटनों का दर्द क्या है (ghutno ka dard)
  2. घुटनों और जोड़ों का दर्द के कारण (joint and knee pain in hindi)
  3. जोड़ों और घुटनों के दर्द का इलाज (ghutno ke dard ka ilaj)
  • घुटनों के दर्द की एक्सरसाइज (ghutno ki exercise)
  • घुटने की ग्रीस का इलाज (ghutno ki greece ka ilaj)
  • घुटने का दर्द उपाय पतंजलि (ghutno ka dard patanjali medicine)
  • जोड़ो और घुटने का दर्द उपाय होम्योपैथी

घुटनों का दर्द क्या है (ghutno ka dard):-

हमारा शरीर 206 हड्डीयों से बना होता है और हर एक हड्डी दूसरी हड्डी से एक जॉइंट से जुडी रहती है। और इस जॉइंट की बीच मे एक गैप होता जिसके बीच मे सिनोविअल (Synovial fluid) एक चिपचिपा, गैर-न्यूटोनियन द्रव होता है जो की लुब्रीकेंट्स (चिकनाई) का काम करता है जो की कभी-भी दो हड्डीयों को एक दुसरे से रगड़ (घर्षण) नहीं करने देता है। पर जब यह लुब्रीकेंट्स (ग्रीस) की मात्रा कम या खत्म हो जाती है तो हड्डियाँ आपस मे रगड़ खाना शुरू कर देती है जिससे घुटने और जांघ की हड्डी दबी सी महसूस होती है और दर्द शुरू होता है। इस दर्द को ही जोड़ो या घुटनों का दर्द (ghutno ka dard) कहते है।

घुटनों और जोड़ों का दर्द के कारण (joint and knee pain in hindi):-

(i). अधिक उम्र के लोगों मे घुटनों का दर्द गठिया रोग़ (arthritis) की वजह से होता है

(ii). कौनड्रोमालेकिया पटेला (Chondromalacia patella) घुटनों के दर्द का प्रमुख कारण है। पटेला, घुटने और जांघ (फीमर) की हड्डी का कवर होता है। पटेला की पोजीशन बिगड़ने से  बार-बार उठने या बैठने पर पटेला जांघ की हड्डी (फीमर हड्डी) और घुटने से रगड़ (घर्षण) करता है।

जोड़ों का दर्द के कारण

Image source- Naveen Sharma’s knee and shoulder clinic

जिससे घुटने की दीवारों पर दरारे पड़ जाती है। जिसकी वजह से घुटने और जांघ का जॉइंट की सतह नरम पड़ जाती है। और घुटनों का दर्द (ghutno ka dard) महसूस होता है।

(iii). बहुत ज्यादा सीढ़िया चढ़ना ,लम्बे समय तक गलत तरीके से आलती-पालती मारकर बैठने, या गलत तरीके की एक्सरसाइज करने से भी जोड़ो और घुटनों का दर्द (jodo ka dard) शुरू हो जाता है।

(iv). कैल्शियम और विदामिन-डी 3 की कमी से भी घुटनों का दर्द (ghutno ka dard) होता है।

(v). ताज़ा या पुराना फ्रैक्चर की वजह से भी हड्डियाँ कमजोर हो जाती है और जोड़ों के दर्द (jodo ka dard) का कारण बनती है।

(vi). अधिक मोटापा और अधिक खट्टे फलों का सेवन knee pain का सबसे बड़ा कारण है।

दोस्तों, घुटनों या जोड़ो के दर्द होने पर ज्यादा चिंता करने की आवश्यकता नहीं है बस थोड़ी सी सावधानी से घुटनों के दर्द का इलाज किया जा सकता है। तो आईए, विस्तार से इन उपायों को जानने की एक सफ़ल कोशिश करते है।

ज़रूर पढ़े :- पेट और कमर की चर्बी कम करने के उपाय  

जोड़ों और घुटनों के दर्द का इलाज (ghutno ke dard ka ilaj) :-

  1. घुटनों के दर्द की एक्सरसाइज (ghutno ki exercise):-
  • समतल जमीन या बेड पर एक चाटई या दरी बिच्छा कर पीठ के बल सीधा लेट या बैठ जाए | और एक छोटा गोल रोलर या तकिया पैरों के घुटने वाले हिस्से के नीचे रख ले | अब धीरे-धीरे पैरों को सीधा करने की कोशिश करे और पैरों की अंगुलियों को अपनी तरफ़ खींचे और कुछ समय तक होल्ड करे | जितना आराम से हो सके उतना ही करना है फिर पैरों को रिलैक्स कर फिर से यहीं प्रक्रिया रिपीट करे | आपके पूरे पैर को इस घुटनों की एक्सरसाइज (ghutno ki exercise) से बहुत जल्दी घुटनों के दर्द मे आराम मिलता है।

  • दूसरी घुटनों की एक्सरसाइज मे आपको पीठ के बल लेटे रहना है और एक पैर को अपनी तरफ़ फोल्ड करना है और दुसरे पैर को धीरे-धीरे उपर की तरफ यथाशक्ति अनुसार पैरों की अंगुलियों को अपनी तरफ टाइट खींचते हुए ऊपर उठा कर 30 डिग्री के एंगल पर 10 से 15 सेकंड समय तक होल्ड करना है। फिर धीरे से पैर को नीचे लाना है। और दुसरे पैर से भी यही प्रक्रिया रिपीट करनी है।

इसे पढ़ना भी ना भूले :- हाई ब्लड प्रेशर को तुरंत कंट्रोल कैसे करे

  1. घुटने की ग्रीस का इलाज (ghutno ki greece ka ilaj) :-
  • आयु बढ़ने के साथ घुटनों के जॉइंट की ग्रीस (चिकनाहट) कम या खत्म होने लगती है। लेकिन अगर आप सुबह के समय 2 अखरोट और बादाम गुन-गुने दूध के साथ रोज़ाना पीते है तो आप के घुटनों मे ग्रीस के कमी कभी नहीं होगी | क्योंकि अखरोट मे ओमेगा फैटी तत्व के प्रचुर मात्रा होता है। जो की ghutno ki greece को बहुत जल्दी बढ़ाता है।
  • रोज़ाना दिन के समय नारियल पानी और रात को हल्दी का दूध पिना घुटने की ग्रीस का उतम इलाज (ghutno ki greece ka ilaj) है।
  • विटामिन-डी घुटनों की ग्रीस बढ़ाने मे बहुत कारागार है। अत: इसके लिए आप सुबह के समय हल्की धुप का सेवन ज़रूर करे | इससे से पूरे शरीर मे रक्त का संचार अच्छे से होता है। और जोड़ो की अकड़न दूर होती है
  1. घुटने का दर्द उपाय पतंजलि दवा (ghutno ka dard patanjali medicine)
  • पतंजलि पीडान्तक ऑइंटमेंट या तेल (Patanjali Peedantak ointment and oil) को घुटने पर आराम से लगाए और कपडें से घुटने को ढकने से कुछ ही समय मे घुटने और जोड़ो के दर्द में आराम मिलता है। पीडान्तक  तेल  को खरीदने के लिए फ़ोटो पर ज़रूर करे | 👇👇👇👇👇👇

  • पतंजलि दिव्य चंद्र्पभा वटी (भै.र) (chandrprabha vati B.R.) की दो गोलिया रोज एक बार लेने से jodo aur Ghutno ke dard मे बहुत आराम मिलता है।
  • गिलोय स्वरस (Patanjali Giloy juise) को सुबह-शाम एक चमच्च पीने से घुटने के दर्द मे बहुत आराम मिलता है क्योंकि गिलोय ज्यूस घुटनों की ग्रीस को मेन्टेन रखता है। अत: गिलयो जोड़ों के दर्द की उतम पतंजलि दवा है।
  1. जोड़ो और घुटने का दर्द का होम्योपैथी उपाय :-
  • होम्योपैथी दवाई Rhus Tox-200 या Ruta Graveolens-200 की दो-दो बूंद सुबह शाम ले | यह घुटने का दर्द (ghutno ka dard) को दूर करने मे उत्तम होम्योपैथी उपाय है।
  • Home cal tablet की दो –दो गोली दिन मे 3 बार लेने से घुटनों का दर्द (ghutno ka dard) बहुत जल्दी ठीक होता है।
  • जोड़ों के दर्द की आयुर्वेदिक दवा के रूप मे आप Bryonia Alba 200 ch की दो बूंद गुनगुने पानी मे दिन मे 3 बार ले | आपको जोड़ो का दर्द जड़ से खत्म हो जाएगा |

दोस्तों, आशा करते है की आप को जोड़ो और घुटनों के दर्द के कारण और उपाय के बारे मे विस्तार से जानकारी प्राप्त हुई | पर ध्यान रहे घुटनों के इलाज़ मे हमें कोई लापरवाही नहीं करनी है बस थोड़ी सी जागरूकता और एक अच्छे फ़िजोयो-थेरपिस्ट से परामर्श ज़रूर करना है।

अगर डायबिटीज और थायराइड की समस्या है तो निम्नलिखित ब्लॉग भी ज़रूर पढ़े |

  1. शुगर के लक्षणों को अनदेखा करने की भूल ना करे |
  2. थायराइड का आयुर्वेदिक उपचार पतंजलि |

ब्लॉग राइटर :- अनिल रमोला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *